4366राय
16m 0sलंबाई
93रेटिंग

कृषि एवं किसान कल्याण मंत्रालय में कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग की स्थापना दिसम्बर, 1973 में की गई थी। कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग (डेयर) देश में कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा के समन्वय और सवंर्धन का कार्य करता है। डेयर, भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आई सी ए आर) जो कि पूरे देश में बागवानी, मात्स्यिकी और पशु विज्ञान सहित कृषि शिक्षा के क्षेत्र में अग्रणी अनुसंधान संगठन है के समन्वयन, मार्ग निर्देशन एवं अनुसंधान प्रबंध के लिए आवश्यक सरकारी संयोजन प्रदान करने का कार्य करता है। पूरे देश में फैले 99 भाकृअप संस्थानों और 66 कृषि विश्वविद्यालयों के साथ यह विश्व में सबसे विस्तृत राष्ट्रीय कृषि अनुसंधान प्रणालियों में से एक है।. भाकृअप के अलावा कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग के प्रशासनिक नियंत्रण में केन्द्रीय कृषि विश्वविद्यालय, इम्फाल एक और स्वायत्त निकाय है। इस केन्द्रीय विश्वविद्यालय की स्थापना 1993 में हुई इसके अधिकार क्षेत्र में अरूणाचल प्रदेश, मणिपुर, मेघालय, मिजोरम, सिक्किम और त्रिपुरा हैं और यह पूर्णतः भारत सरकार द्वारा वित्त पोषित है। कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग भारत में कृषि अनुसंधान तथा शिक्षा के क्षेत्र में अन्तर्राष्ट्रीय सहयोग के लिए नोडल अभिकरण हैं। विभाग कृषि अनुसंधान के विभिन्न क्षेत्रों में सहयोग के लिए विदेशी सरकारों, संयुक्त राष्ट्र, सी जी आई ए आर एवं अन्य बहुपक्षीय अभिकरणों के साथ संपर्क स्थापित करता है। कृषि अनुसंधान एवं शिक्षा विभाग विभिन्न भारतीय कृषि विश्वविद्यालयों/भाकृअप के संस्थानों में विदेशी विद्यार्थियों को प्रवेश दिलाने के लिए समन्वय का कार्य भी करता है। श्री राधा मोहन सिंह ने 28 मई, 2014 को केन्द्रीय कृषि मंत्री का कार्यभार ग्रहण किया।