1169राय
12m 6sलंबाई
10रेटिंग

कृषि वानिकी है लाभ की खेती ग्रामीण जनता के आर्थिक विकास एवं पर्यावरण संतुलन को बनाये रखने में वानिकी का महत्वपूर्ण योगदान है, विशेषकर ऐसे समय में जब ईधन, चारा, पैकिंग लकड़ी, कच्चा माल व इमारती लकड़ी की कमी हो | सघन खेती एवं मूल वनों की वानस्पतिक वृद्धि के विनाश के कारण भूमि में लवणता, क्षारीयता तथा वायु एवं जल कटाव निरंतर जारी है | हरियाणा का एक बहुत बड़ा भू-भाग बेकार पड़ा है | इसलिए व्यर्थ पड़ी भूमि पर वन उगाना और उनका बायोमास उतपादन हेतु सर्वोत्तम उपयोग करना व बेकार भूमि का संरक्षण करने हेतु वृक्षों को पौधरोपण के रूप में या कृषि वानिकी के अंतर्गत फसलों में उगाना अनिवार्य है | बेकार भूमि में या कृषि फसलों में पेड़ उगाने से किसान को ना केवल इससे अतिरिक्त आय प्राप्त होती है अपितु इससे व्यर्थ पड़ी भूमि में सुधार होता है और मृदा उर्वरता क्षमता भी बढ़ती है | पौधशाला निर्माण : फसलों का चुनाव :